कुम्भ राशि मे पड़ने वाले नक्षत्र एवं उनके चरण कुछ इस प्रकार है-
धनिष्ठा – गू, गे।
शतभिषा – गो, सा, सी, सू।
पू.भा. – से, सो, द।
इस वर्ष 2021 मे कुम्भ राशि में स्थित चन्द्रमा लग्न में उपस्थित रहेगा।
मिथुन राशि का राहु पांचवें स्थान में उपस्थित होगा। वृश्चिक राशि में स्थित मंगल दसवें स्थान में उपस्थित रहेगा।
धनु राशि में स्थित सूर्य देव, इनके साथ बुध देव, इनके साथ गुरू देव, इनके साथ केतु व शनि लाभ स्थान में उपस्थित रहेंगे व मकर राशि का शुक्र बारहवें स्थान में उपस्थित रहकर वर्ष भर गतिशील रहेंगे। शारीरिक स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष 2021 अच्छा रहेगा। इस वर्ष मानसिक शांति व संतुष्टि बनी रहेगी अगर इलाज समय-समय पर करवायेंगे तो पुराने रोग में सुधार होने के साथ ही मन प्रसन्नचित रहेगा।जिसके फलस्वरूप स्वभाव में चंचलता व मधुरता का भाव उत्पन्न होता रहेगा।
यह वर्ष 2021 पारिवारिक सुख समृद्धि की दृष्टि से ठीक-ठीक रहेगा। अगर समझौतावादी दृष्टिकोण से व्यवहार करेंगे तो परिवार के सदस्यों में सामान्य स्थिति बनी रहेगी। पारिवारिक जनों में आपसी मतभेद होने से उनके बीच सुख-सहयोग की कमी महसूस होगी। हालाकिं माता जी के लिए यह समय अच्छा रहेगा परन्तु पिता जी के स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रहेगी जिससे उनके मन में खिन्नता व असंतुष्टता रहेगी और संतान की ओर से असंतुष्ट व अप्रसन्न रहेंगे। मनोवांछित सुख में अभाव की स्थिति लगेगी। परिवार में पत्नी का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा साथ ही साथ दाम्पत्य जीवन में मधुरता बनी रहेगी। इस वर्ष अविवाहितों के विवाह होने की प्रबल सम्भावना बनेगी।
इस वर्ष 2021 में व्यापारिक एवं कार्यक्षेत्र की दृष्टि से समय अनुकूल रहेगा। इस वर्ष परिश्रम से पूर्व ही
उन्नति के मार्ग पर अग्रसर होने के अवसर रहेंगे। सांसारिक महत्त्व के शुभ एवं महत्त्वपूर्ण कार्यों को बुद्धिमतापूर्वक समय पर पूरा करने में सक्षम रहेंगे | व्यापारिक क्षेत्र व कार्य में महत्त्वपूर्ण, उन्नतिकारक किसी परिवर्तन की संभावना बनेगी। राजनैतिक क्षेत्र के लिये यह समय अत्यन्त महत्त्वपूर्ण व शुभ रहने से किसी पद की प्राप्ति हो सकती है। इस वर्ष आपको मंत्रीगण व उच्चाधिकारी वर्ग से सम्बन्ध स्थापित करने के भरपूर अवसर प्राप्त होंगे तथा उनसे पूर्ण सहयोग एवं लाभ अर्जित करने में आप सक्षम रहेंगे। भाग्य की दृष्टि से प्रबलता रहेगी।
आर्थिक दृष्टि से यह वर्ष 2021 उतार-चढ़ाव का रहेगा। इस वर्ष जैसे-जैसे आय होगी उसके साथ-साथ खर्च भी उसी अनुपात में होता रहेगा। शुभ कार्य हेतु खर्च की अधिकता रहेगी अत: सोच विचारकर ही खर्च करे। जमीन-जायदाद से सम्बंधी साधनों से धन-लाभ की प्राप्ति होगी और पैतृक सम्पत्ति का निपटारा बुजुर्गो के सान्निध्य में शांति से हो जाएगा | इसी वर्ष काफी समय से इन्तजार कर रहे लोगों को नया वाहन खरीदने का मानस बनेगा।
इस वर्ष 2021 में विद्यार्थियों को उत्कर्ष की ओर ले जाने के लिये सितारे चमकेंगे। जो छात्र विदेश में जाकर उच्च शिक्षा पाने का सपना देख रहे है उनका ये सपना इस समय पूरा होगा खासकर इंजीनियर करने वाले छात्रों के लिये समय काफी बढ़ा-चढ़ा रहेगा। विद्यार्थियो को इस वर्ष कैरियर बनाने के लिए पिता की ओर दे पूरा योगदान व आशीर्वाद बना रहेगा।
इस वर्ष 2021 में यात्रा की दृष्टि से कार्य हेतु नजदीकी व दूर की यात्राऐं सम्पन्न होगी।

उपाय

  • सवा पांच रत्ती का नीलम धारण करें।
  • शनिवार के दिन काले घोड़े के नाल की बनी मध्यमा अंगुली में धारण करें।
  • शनिवार के दिन कीडी सींचे।
  • शनिवार के दिन लोहे की कटोरी में तेल या तिल का दान करें।
  • शनि मंत्र का जाप करें।
  • कांच के बर्तन में खाना-पीना नहीं करें।
  • नशीले पदार्थों का सेवन न करें।
  • नीला स्फटिक की माला से शनि मंत्र जप करें।