हमारी परंपराएं, हमारी विरासत,
घर की दरिद्रता दूर करती है झाडू

झाडू वैसे तो सामान्यतः वस्तु है, लेकिन शास्त्रों में इसका संबंध माता महालक्ष्मी की कृपा से उल्लेखित है। जिस घर में साफ-सफाई होती है, वहां माता लक्ष्मी का वास होता है। माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए घर के पास किसी मंदिर में तीन झाडू रख आएं। यह पुराने समय से चली आ रही परंपरा है। पुराने समय में लोग मंदिरों में झाडू दान किया करते थे।
ध्यान रखें ये बात “मंदिर में झाडू सुबह ब्रह्म मुहूर्त में ही रखना चाहिए।”
“यह काम विशेष दिन करना चाहिए। विशेष दिन जैसे कोई त्यौहार में , ज्योतिष के शुभ योग में या शुक्रवार के दिन में “इस कार्य को गुप्त रूप से करना चाहिए। शास्त्र में गुप्त दान का विशेष महत्व बताया गया है।”
“जिस दिन यह कार्य करना हो, उसके एक दिन पहले ही बाजार से तीन झाडू खरीदकर लाना चाहिए।”
नकारात्मक ऊर्जा दूर करती है झाडू अगर घर की गंदगी, धूल-मिट्टी, मकड़ी के जाले इत्यादि साफ नहीं किए जाएंगे तो घर का वातावरण नकारात्मक हो जाता है। जिसका सीधा असर हमारे घर की आर्थिक स्थिति पर होता है। घर में साफ-सफाई रखेंगे तो स्वतः ही इन बातों से छुटकारा मिल जाता है और माता महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है।

शास्त्र में झाडू को माता महालक्ष्मी का रूप माना गया है, अतः किसी भी प्रकार से इसका अपमान नहीं करना चाहिए। घर में यदि झाडू सबके सामने रखी जाती है तो कई बार अन्य परिवार जनों के पैर उस पर लगते हैं, जो कि अशुभ है। इसी कारणवश से झाडू को किसी स्थान पर छिपाकर रखना चाहिए।
झाडू को दरवाजे के पीछे रखना बहुत शुभ माना जाता है। झाडू को कभी खड़ी करके नहीं रखना चाहिए। यह अपशकुन माना जाता है। आज के दौर में भी अधिकांश बुजुर्ग लोग झाडू पर पैर लगने के बाद क्षमायाचना करते है व उसे प्रणाम करते हैं। जब भी किसी नए घर में प्रवेश करें, उस समय नई झाडू लेकर घर के अंदर जाना चाहिए। यह शुभ माना जाता है। इससे नए घर में सुख-समृद्धि और बरकत सदैव बनी रहेगी। यदि घर में कोई छोटा बच्चा है, वो अचानक झाडू लगाने लगे तो समझना चाहिए कि आपके घर में कोई मेहमान आने वाला है।
सदैव ध्यान रखें कि ठीक सूर्यास्त के समय झाडू नहीं लगाना चाहिए। यह अपशकुन होता है। झाडू को कभी घर से बाहर व छत पर नहीं रखना चाहिए। यह अशुभ माना जाता है। ऐसा करने पर घर में चोरी होने का भय बना रहता है।
कभी भी गाय व अन्य जानवर को झाडू से नहीं मारना चाहिए। यह बहुत भयंकर अपशकुन माना गया है।
कोई भी सदस्य किसी खास कार्य के लिए घर से निकलता हो तो उसके जाने के तुरंत बाद घर में झाडू नहीं लगाना चाहिए। ऐसा करने पर उस व्यक्ति को असफलता का सामना करना पड़ सकता है।
झाडू को भोजन कक्ष में या जहां हम खाना खाते हैं वहां नहीं रखना चाहिए, झाडू में लगी धूल-मिट्टी के कारण हमें स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं।