तुला राशि में पड़ने वाले नक्षत्र एवं उनके चरण कुछ इस प्रकार है-
चित्रा-रा,री-रू।
स्वाति-रे,रो, ता।
विशाखा-ती, तू, ते।

इस वर्ष 2021 में वृश्चिक राशि में स्थित मंगल देव धन भाव में उपस्थित रहेंगे।
धनु राशि के सूर्य देव इनके साथ ही बुध देव, गुरू देव, केतु देव व शनि देव पराक्रम भाव में होंगे।
मकर राशि में स्थित शुक्र देव चौथे
स्थान में उपस्थित रहेंगे।
कुम्भ राशि में स्थित चन्द्रमा देव पांचवें स्थान में व मिथुन राशि का राहु भाग्य स्थान में उपस्थित रहकर वर्ष भर गतिशील रहेंगे।
यह वर्ष 2021 शारीरिक स्वास्थ्य की दृष्टि से ठीक-ठीक रहेगा। इस वर्ष आप अनावश्यक रूप से दूसरों की परेशानियों को अपना बनाकर गले लगा लेंगे इसके कारण आपकी मानसिक शांति भंग हो
सकती है। साथ ही इस वर्ष आपके मन में किसी न किसी बात को लेकर भ्रम का विषय बनेगा जितना हो सके आप अपने क्रोध पर संयम रखें वरना स्वास्थ्य पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है।
यह वर्ष 2021 पारिवारिक दृष्टि से अच्छा नहीं रहेगा। इस वर्ष परिवार में छोटी-सी छोटी बात को लेकर अशांति का वातावरण बनता रहेगा और पारिवारिक सदस्यों में मधुरता का अभाव रहेगा। यह वर्ष पिता के शारीरिक स्वास्थ्य की दृष्टि से तो अच्छा रहेगा परन्तु माता जी के स्वास्थ्य के लिये अच्छा नहीं है इसलिये शारीरिक व मानसिक रूप से माता जी अप्रसन्न व असंतुष्ट रहेगी।
आपको संतान पक्ष से वांछित सुख व सहयोग की प्राप्ति होगी और संतान आपकी आज्ञा का पालन करेगी और संतान स्वस्थ व प्रसन्न रहेगी। स्त्री के सुख एवं स्वास्थ्य के लिये समय अच्छा नहीं रहेगा। दाम्पत्य
जीवन में गलतफहमियां अधिक होने के कारण तनाव की स्थिति बनी रहेगी। इस वर्ष प्रेमी-प्रेमिका को सच्चे प्यार में धोखा मिलने की सम्भावना रहेगी और एक-दुसरे के प्रति विश्वास कमजोर होगा व कदम डगमगाने लगेंगे|
यह वर्ष 2021 व्यापारिक एवं कार्यक्षेत्र में उन्नति तथा सफलता की दृष्टि से मिश्रित फलकारी रहेगा। आपको नौकरी या राजनीति में कड़ी मेहनत करने के बावजूद भी वांछित पद नहीं मिल पाएंगे व नौकरी पेशा लोगों का वांछित स्थान पर स्थानान्तरण नहीं होने से मन में उदासी छा जायेगी। इस वर्ष आपको कोर्ट-कचहरी के अनावश्यक रूप से चक्कर काटने पड़ेंगे और आपके शत्रु महत्त्वपूर्ण कार्यों में बाधा डालने की कोशिश करेंगे। उद्योग में जन्म स्थान से दूर जाकर बाहर के कार्यों से फायदा मिलेगा।
आपको साझेदारी के व्यापार में नुकसान उठाना पड़ सकता है। राजकीय कार्यों में उठा-पटक बनी रहेगी। इस वर्ष अपने किसी भी महत्त्वपूर्ण कार्य को दूसरे के भरोसे नहीं छोड़े।
इस वर्ष 2021 में भौतिक व आर्थिक स्थिति अनुकूल रहेगी लेकिन शुभ कार्यों में व धार्मिक स्थल हेतु खर्च की अधिकता बनी रहेगी। ससुराल पक्ष को जरूरत के समय रूपये उधार देने की सम्भावना हैं। आय की आवक के साथ-साथ जावक भी बनी रहेगी इसीलिये सोच समझकर ही खर्च करें।
इस वर्ष 2021 में विद्यार्थियों को हर क्षेत्र में वांछित सफलता मिलेगी। विद्यार्थी पढ़ाई की ओर ध्यान
रखते हुए अपने आगे का भविष्य उज्जवल बनाने में सक्षम रहेंगे। इस वर्ष विद्यार्थियो के भाग्य के सितारे चमकेंगे व उच्च स्तर की डिग्री प्राप्त करने में सफल रहेंगे| आपकी काबलियत को देखकर सरकार की ओर से आपको सम्मानित किया जायेगा । इस वर्ष आप कमजोर परिस्थिति में भी वांछित कैरियर को चुनने में सफल रहेंगे।
इस वर्ष 2021 में विदेश की यात्रा व दूर-समीप की यात्राऐं होगी।

उपाय

  • लक्ष्मी माता की आराधना करें।
  • शुक्रवार को खीर का भोजन करें।
  • जिरकॉन युक्त शुक्र यंत्र लॉकेट गले में अभिमंत्रित करके धारण करें।
  • सफेद या क्रीम कलर का सुगन्धित रूमाल हमेशा पास में रखें।
  • शुक्रवार को सवा किलो चावल का दान गरीबों को देवें।
  • कुंवारी कन्याओं को पांच पूर्णिमा को खीर-खाजा का भोजन करावें |
  • माता, बहन व स्त्री का आदर-सम्मान करें।
  • चांदी धातु में बनी हुई वस्तु या स्प्रे किसी ब्राह्मण स्त्री को दान देवें।
  • शुक्रवार को दही व अन्य खटाई का भोजन नहीं करें।