आपके घर में जहाँ पैसा रखते हैं वहाँ जरुर करिए ऐसा एक उपाय……
सामान्यतः घरों में पैसा या धन, आभूषण या अन्य कोई
मूल्यवान सामान रखने के लिए कोई विशेष स्थान होता है।
यह सभी सामान तिजोरी व अलमारी में रखे जाते हैं।
तिजोरी व अलमारी के लिए यहां एक अत्यंत ही चमत्कारी उपाय बताया जा रहा है जिसके द्वारा घर में बरकत हमेशा बनी रहेगी व दरिद्रता भी नहीं आएगी।
और कभी धन की कमी नहीं होगी…
जैसा कि अनुभव मे तिजोरी में सभी मूल्यवान सामान रखा जाता है अतः इस संबंध में वास्तु की टिप्स से घर में हमेशा बरकत बनी रहती है और धन की कमी भी नहीं होती। तिजोरी में
धन रखते हैं और इसी वजह से यहीं धन की देवी महालक्ष्मी का वास भी होता है।
इस स्थान को पवित्र एवं साफ-स्वच्छ रखना
चाहिए। इसके अलावा एक सटीक उपाय बताया गया है जिसे अपनाने से परिवार के सभी सदस्य को आर्थिक तंगी से कभी परेशान नहीं होना पड़ेगा।
घर की तिजोरी या अलमारी के दरवाजे पर महालक्ष्मी की चित्र लगाएं। चित्र ऐसा हो जिसमें देवी लक्ष्मी बैठी हुईं हों, चित्र सुंदर और परंपरागत होना चाहिए तथा दो हाथी सूंड उठाए नजर आते हों।
ऐसा चित्र लगाने पर घर में देवी महालक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहेगी और धन की कमी कभी नहीं आएगी।
साथ ही ध्यान रखें कि खुद को किसी भी प्रकार के अधार्मिक कार्यों से दूर ही रखें।
जिस कमरे में तिजोरी व अलमारी रखी है उस कमरे में हल्का क्रीम रंग का पेंट करेंगे तो अच्छा रहेगा।
वास्तु के अनुसार धन के देवता कुबेर जी का स्थान उत्तर
दिशा में माना गया है। उत्तर दिशा में कुबेरदेव के प्रभाव से धन की सुरक्षा होती है और समृद्धि बनी रहती है। इसका मतलब यही है कि हमें नकद धन को उत्तर दिशा में रखना चाहिए।
जैसे कि प्रत्येक व्यक्ति के लिए नकद धन के लिए अलग कमरा बनवाना मुमकिन नहीं है। जिन लोगों के यहाँ पैसा रखने के लिए अलग विशेष कक्ष नहीं है वह अपना धन उत्तर दिशा में रख सकते हैं। कृपया ये अवश्य ध्यान रखें कि कमरा पूरी तरह सुरक्षित हो एवं वहां चोरी आदि का भय नहीं होना चाहिए। धन को उत्तर दिशा में रखने से व्यक्ति की आर्थिक स्थिति में अत्यंत सुधार होता है।
कुछ वास्तु शास्त्रियों का मानना है कि, नकद एवं धन को उत्तर दिशा में तथा रत्न व आभूषण आदि को दक्षिण दिशा में रखना उपयुक्त होता है। वैसे कारण ये है कि नकद धन आदि हल्के होते है, इसलिए इन्हें मुख्यतः उत्तर दिशा में रखना समृध्दिदायक माना जाता है। जबकि रत्न व आभूषण में वजन एवं मूल्य अधिक होता है, सो ये चीजें विशेष स्थान पर ही रखें। इन चीजों के लिए तिजोरी या अलमारी बढ़िया रहती है और ये बहुत भारी होती है। भारी सामान या वस्तुओं के लिए दक्षिण दिशा बढ़िया मानी जाती है। इसलिए कृपया रत्न और आभूषण की अलमारी को दक्षिण दिशा में रखा उचित होता है ।