धनु राशि मे पड़ने वाले नक्षत्र एवं उनके चरण कुछ इस प्रकार है-
मूल – ये, यो, भा, भी।
पूर्वाषाढ़ा – भू, धा, फा, ढा।
उत्तराषाढ़ा – भे।

इस वर्ष 2021 में धनु राशि में स्थित सूर्य देव, इनके साथ बुध देव, इनके साथ गुरू देव, केतु व शनि लग्न में उपस्थित रहेंगे।
मकर राशि के शुक्र धन भाव में उपस्थित रहेंगे।
कुम्भ राशि में स्थित चन्द्रमा पराक्रम स्थान में उपस्थित होगा।
मिथुन राशि के राहु सातवें स्थान में व वृश्चिक राशि में स्थित मंगल बारहवें स्थान में उपस्थित होकर वर्ष भर गतिशील रहेंगे।
शारीरिक स्वास्थ्य की दृष्टि से इस वर्ष 2021 में मानसिक रूप से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। किसी वांछित कार्य के पूरा ना होने से मन अपशान्त व स्वभाव में चिड़चिड़ापन उत्पन्न होगा । जिससे आपके स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ सकता है। इस वर्ष मौसम सम्बंधी बीमारी जैसे रोग होने की संभावना बन सकती है अगर इलाज उचित समय पर करवाये तो स्वास्थ्य ठीक रहेगा ।किसी अकस्मात दुर्घटना से बचने के लिये वाहन हमेशा ध्यान से व धीमी गति से चलाये । इस वर्ष आप दूसरों की किसी भी प्रकार की सहायता करने में असमर्थ रहेंगे।
इस वर्ष 2021 में पारिवारिक दृष्टि से उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रहेगी। इस वर्ष पारिवारिक सदस्यों में एक-दूसरे के परस्पर सुख व सहयोग की भावना में कमी महसूस होगी। आपसी सम्बन्धों में लोगों के मध्य शत्रु जैसा व्यवहार रहेगा और वाणी में कर्कशता व कटुता रहेगी। पिता जी या बड़े भाई के साथ वैचारिक मतभेद व मनमुताव रहेंगे परंतु माता जी के स्वास्थ्य की दृष्टि से यह समय ठीक-ठीक रहेगा| मानसिक रूप से वे अस्वस्थ व अप्रसन्न रहेंगे लेकिन संतान के किये समय अच्छा रहेगा। परिवार में काफी समय से कन्या का जन्म होने पर खुशहाली का माहौल बनेगा। दाम्पत्य जीवन में पति- पत्नी के बीच मधुरता का अभाव रहेगा हालाकिं समझौतावादी दृष्टिकोण रखने से पति-पत्नी में सुख बना रहेगा।
इस वर्ष 2021 में व्यापारिक एवं कार्यक्षेत्र की दृष्टि से वर्ष पहले से अच्छा रहेगा | व्यापार के क्षेत्र में वृद्धि हेतु कई तरह के अनुबन्ध हासिल होंगे। इस वर्ष अगर बुजुर्गों की राह पर चलकर कार्य करेंगे व उनकी सलाह लेंगे तो कामयाबी हासिल करेंगे। कार्यक्षेत्र में उन्नति हेतु मन में सकारात्मक विचार उत्पन्न होंगे, जो भाग्य के सितारे उत्कर्ष की ओर जाने के संकेत देंगे। नौकरीपेशा लोगों की पदोन्नति होकर मनोवांछित स्थान पर स्थानान्तरण होने से मन प्रसन्न रहेगा। यह समय राजनेताओं के लिए सफलता से भरा रहेगा। उच्चाधिकारी वर्ग से मेल-जोल व सम्मान बढ़ेगा। कोर्ट-कचहरी के मामलों में सुलझारा होगा। इस समय सोच-समझकर कदम उठाने पर हर क्षेत्र में विजयश्री मिलेगी। आमतौर पर मित्रों की ओर से आपका सुख व सहयोग बना रहेगा।
आर्थिक दृष्टि से इस वर्ष 2021 के शुरू में सब ठीक-ठीक रहेगा, किन्तु मार्च के मध्य से समय धीरे-धीरे आर्थिक स्थिति में सुधार होने लगेगा। इस वर्ष आप उधार दिये हुए रूपये वसूल करने में समर्थ रहेंगे। शुभ कार्यों को संपन्न कराने व मकान की मरम्मत करवाने में रूपया खर्च होने की अधिकता रहेगी। इस वर्ष आमदनी के साधन एक से अधिक रहेंगे लेकिन समय पर रूपए-पैसों का सदुपयोग नहीं कर पाएंगे। सभी प्रकार के भौतिक सुख-संसाधनों के क्षेत्र में वृद्धि होने की सम्भावना रहेंगी ।किसी भी कीमत पर जुआ, लॉटरी-सट्टे में पैसा न लगाये अन्यथा भारी नुक्सान उठाना पड़ सकता है।
यह वर्ष 2021 विद्यार्थियों के लिए पहले से बेहतर रहेगा। इस वर्ष छात्रो को मनचाही उच्च शैक्षणिक उपाधि की प्राप्ति होगी। खास तौर पर कला के छात्र व फैशन डिजाइनर, कम्प्यूटर के क्षेत्र में कैरियर बनाने हेतु सफलता का समय साबित होगा।
इस वर्ष 2021 में बिजनेस को लेकर छोटी-बड़ी यात्राएं होती रहेगी।

उपाय

  • गुरूवार को बेसन का भोजन करें।
  • गुरूवार का व्रत बिना नमक का करें।
  • नित्य केसर चन्दन का तिलक लगावें।
  • सवा पांच रत्ती का पुखराज या सुनैला गुरू यंत्र में जड़वाकर अभिमंत्रित करके गले में धारण करें।
  • विष्णु सहस्त्र व सुदर्शन कवच का पाठ करें।
  • गुरूवार को सवा पांच किलो चने की दाल का दान करें।
  • गुरू का आदर-सत्कार व आशीर्वाद लेवें।
  • विष्णु-लक्ष्मी की आराधना व पीले स्फटिक की माला से मंत्र जपे या धारण करें।
  • विवाह में बाधा आ रही है तो अभिमंत्रित यलो टोपाज के गणपति की आराधना करें।
  • केसर-चंदन का इत्र लगावें